बच्चों ने किया मशहूर ​डब्बावालों का सम्मान

0
521
​डब्बावालों

मुम्बई। मायानगरी मुम्बई में रोजाना हजारों लोगों को दोपहर का खाना पंहुचाने वाले मुम्बई के डब्बावाले अपनी कार्यकुशलता के लिए दुनियाभर में मशहूर है। इन डब्बावालों की पेशेवर क्षमता का बखान देश ही नही विदेशोें में भी होता है। समाज के हर तबके में इन डब्बावालों की अपनी अलग पहचान है। हाल ही में किडजानिया पंहुचने पर कुछ चुनिंदा डब्बावालों का बच्चों द्वारा स्वागत किया गया।
​डब्बावालोंडब्बावालों के एसोसिएशन के अध्यक्ष बालासाहेब भालेराव, बाबाजी शिवेकर, अशोक सावंत, सुनील मेघे और उल्हास मूक ने छोटी से मुलाकात के लिए किडजानिया का दौरा किया। डब्बावालों के एसोसिएशन अध्यक्ष बालासाहेब भालेराव, बाबाजी शिवेकर, अशोक सांवत, सनील मेघे और उल्हास मूक ने हाल ही में किडजानिया के विजिट के दौरान बच्चों से एक खास मुलाकात भी की। बच्चों ने डब्बावालों की कार्यप्रणाली के बारे में जानने के लिए डब्बावालों से तरह तरह के सवाल किए जिनका बच्चों को संतुष्टिपूर्ण जवाब दिया गया। इन डब्बावालों के साथ बच्चों ने विशेष सत्र में भी हिस्सा लिया। इतना ही नहीं किडजानिया के आसपास बच्चों ने खाने के डिब्बों पर आकर्षक चित्रकारी कर सामाजिक संदेश भी दिया।​डब्बावालों

आपको बता दें कि किडजानिया में बच्चों के मनोरंजन के लिए ही नहीं बल्कि उनकी रचनात्मकता को निखारने के लिए भरपूर सामग्री है। किडजानिया बच्चों के लिए थीम पार्क है, जहां उन्हें डब्बावालों की कार्यशैली समझने का मौका मिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here