सेंसर ने रोकी मलयालम फिल्म “कथकली” ।

0
630

अभी जिस प्रकार से फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ को लेकर सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी व फिल्म के निर्माता अनुराग कश्यप के बीच में विवाद चल रहा है वह तो जगजाहिर है ही. तथा पहलाज निहलानी सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष होने के नाते आज पूरी फिल्म इंडस्ट्री की आंखों में खटक रहे हैं। अब सुनने में आया है कि उड़ता पंजाब को लेकर लंबी खींचतान के बाद अब सेंसर बोर्ड के बारे में पता चला है कि उसने एक और मलयालम फिल्म पर अपना शिकंजा कसा है. खबरों के मुताबिक ‘कथकली’ नाम की इस मलयालम फिल्म को सेंसर बोर्ड ने रिलीज़ सर्टिफिकेट देने से इनकार कर दिया है।  फैसले के ख़िलाफ़ मलयालम फिल्म निर्देशकों और तकनीशियन्स ने तिरुवनंतपुरम में सेंसर बोर्ड के रीज़नल दफ्तर के सामने विरोध प्रदर्शन किया। सेंसर बोर्ड ने फिल्म में हिंसा और नग्नता की वजह से इसे सर्टिफिकेट देने से इनकार किया। साथ ही फिल्म में 3 कट्स लगाने के लिए कहा. मलयालम फिल्म ‘कथकली’ को 27 वर्षीय साइजो कन्नाईक्कल ने डायरेक्ट किया है। बता दे कि उड़ता पंजाब के बाद सेंसर बोर्ड ने एक और भारतीय फिल्म जिसका नाम हरामखोर है उस पर भी अपनी टेढ़ी नजर की है. सेंसर बोर्ड ने कहा है कि फिल्म को सर्टिफिकेट देने से यह कहते हुए मना कर दिया कि फिल्म का सब्जेक्ट आपत्तिजनक है. तथा फिल्म में शिक्षकों को गलत रूप में प्रस्तुत किया गया है. अभी जिस प्रकार से फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ को लेकर सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष पहलाज निहलानी व फिल्म के निर्माता अनुराग कश्यप के बीच में विवाद चल रहा है वह तो जगजाहिर है ही. तथा पहलाज निहलानी सेंसर बोर्ड के अध्यक्ष होने के नाते आज पूरी फिल्म इंडस्ट्री की आंखों में खटक रहे हैं। अब सुनने में आया है कि उड़ता पंजाब को लेकर लंबी खींचतान के बाद अब सेंसर बोर्ड के बारे में पता चला है कि उसने एक और मलयालम फिल्म पर अपना शिकंजा कसा है. खबरों के मुताबिक ‘कथकली’ नाम की इस मलयालम फिल्म को सेंसर बोर्ड ने रिलीज़ सर्टिफिकेट देने से इनकार कर दिया है। हिंदुस्तान टाइइस फैसले के ख़िलाफ़ मलयालम फिल्म निर्देशकों और तकनीशियन्स ने तिरुवनंतपुरम में सेंसर बोर्ड के रीज़नल दफ्तर के सामने विरोध प्रदर्शन किया। सेंसर बोर्ड ने फिल्म में हिंसा और नग्नता की वजह से इसे सर्टिफिकेट देने से इनकार किया। साथ ही फिल्म में 3 कट्स लगाने के लिए कहा. मलयालम फिल्म ‘कथकली’ को 27 वर्षीय साइजो कन्नाईक्कल ने डायरेक्ट किया है। बता दे कि उड़ता पंजाब के बाद सेंसर बोर्ड ने एक और भारतीय फिल्म जिसका नाम हरामखोर है उस पर भी अपनी टेढ़ी नजर की है. सेंसर बोर्ड ने कहा है कि फिल्म को सर्टिफिकेट देने से यह कहते हुए मना कर दिया कि फिल्म का सब्जेक्ट आपत्तिजनक है. तथा फिल्म में शिक्षकों को गलत रूप में प्रस्तुत किया गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here