प्रेम – कभी भी, कहीं भी #ToiletEkPremkatha

1
1197

सुन लो सभी भैया कान खोलकर, की Toliet तो अब आप सब बनवा ही लो और ये फिल्म Toilet Ek Premkatha देखनें से पहले ही बनवा लो फिर ना कहना की पंखुरी ने बताया नहीं ।

टॉयलेट नहीं तो प्रेमकथा नहीं…..अब एक अदद संडास (Toilet) के चक्कर में पड गई न हमारे हीरो अक्षय कुमार की फिल्मी प्रेमकथा संकट में….अब भैया प्रेम खतरे में हो तो संडास तो बनवाना ही पड़ेगा ना ।

आपको बता दें की अक्षय कुमार की फिल्म Toilet Ek Premkatha गावों में शौचालय घरों में न बनवाने और खुले में शोच जाने की पंखुरीमानसिकता पर प्रहार करते हुएँ हर घर में शौचालय बनवाने का स्वच्छता एवं जागरूकता का संदेश लेकर आई हैं । फिल्म कथानक की प्रेरणा एक भारतीय महिला प्रियंका भारती की असली ज़िंदगी के अनुभव का ही विस्तारित फिल्मी रूप प्रतीत हो रही हैं, जो कि शौचालय नहीं होने के कारण अपनी शादी के दूसरे दिन ही ससुराल छोड़कर अपने मायके आ गई थी एवं शौचालय बननें के बाद ही वापिस गई थी। अभिनेत्री विद्या बालन द्वारा प्रियंका भारती एवं उनकी इस शौचालय क्रांति को लेकर यूनिसेफ द्वारा प्रायोजित एक विज्ञापन फिल्म भी पूर्व में प्रसारित की जा चुकी हैं । । फिल्म के हीरो अक्षय कुमार इसके लिए प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान को भी प्रेरक तत्व बता चुकें हैं ।

यह वाकई विडम्बना और शर्म की बात ही है की हर क्षेत्र में प्रगतिशील 21वीं सदी के भारत में भी हमे हर घर टॉयलेट -हर घर सफाई ” जैसी मूलभूत बात समझाने के लिए भी फिल्म के माध्यम की आवश्यकता है…

भैया बात बड़ी ही गंभीर हैं और कितना इंतज़ार करोगे शौचालय बनवाने के लिए ????…. क्या कहा ……… नहीं बनवाएंगे और फिल्म भी देखने जाएंगे Toilet Ek Premkatha ….. जाइएँ… जरूर जाइएँ ….लगता हैं अब ये बात आप अपने फेवरेट सुपरस्टार अक्षय कुमार से ही सुन कर मानेंगें ।

चलिएँ तो हम सब मिलकर करते हैं अक्षय कुमार, भूमि पेडनेकर अभिनीत फिल्म का इंतज़ार और इसके साथ ही साथ ” हर घर टॉयलेट -हर घर सफाई ” के संदेश को अपनाएं ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here